bible study Bible Verses बाइबल अध्ययन

Mothers Day 2023 : Bible Verses for Mother’s Day | मदर्स डे पर अनमोल बाइबिल वचन | बयां करते है माँ का प्यार

Mothers Day 2023, Bible Verses for Mother’s Day, Precious Bible Verses for Mother’s Day, मदर्स डे पर अनमोल बाइबिल वचन, Mother’s day bible verses in Hindi, bible verses for mothers Hindi, bible verses about mother’s love

 Bible Verses for Mother’s Day
Praise The Lord. एक मां(Mother) और उनके बच्चों के बीच का रिश्ता दुनिया में सबसे अटूट और प्यारा माना जाता हैं. एक मां अपने बच्चों के खातिर किसी भी संकट से लड़ जाती हैं. चाहे उसे अपने बच्चों के सलामती के खातिर जान ही क्यों ना निछावर करनी पड़े. इसी लिए कहा जाता हैं, संसार में अगर कोई ऐसा है जिसका रिश्ता रूह से रूह तक का हो तो वह केवल मां होती है. जब यीशु मसीह क्रूस पर चढ़ाए गए थे, उस वक्त उन्होंने अपनी मां को याद किया था, और अपने मृत्यु से पहले उसे एक सुरुक्षित हाथों में सौपा था. इस प्रसंग से हमें यह महसूस होता है कि, एक मां और उसके बच्चों के बीच का रिश्ता कितना अनमोल होता हैं.

पवित्रशास्त्र माताओं और पारिवारिक प्रेम की भूमिका और लक्षणों के बारे में भरपूर मार्गदर्शन प्रदान करता है. सामान्य रूप से महिलाओं और पारिवारिक प्रेम के बारे में बाइबल के बहुत सारे पद हैं. और इन पदों में भी सबसे ज्यादा मां को लेकर हैं. एक माँ द्वारा समर्थित होने का क्या मतलब है और एक माँ बनने के लिए आवश्यक शक्ति, धैर्य और बलिदान को लेकर जो ज्ञान और अंतर्दृष्टि आवश्यक है उसे जानने के लिए बाइबिल एक महान जगह है. हमें बाइबिल वचन बताते है कि, माँ कितनी खास होती हैं.

मां के अनमोल प्रेम के याद में हर साल मां के लिए एक खास दिन जिसे mothers day के रूप में सेलिब्रेट किया जाता है. एक बच्चे की परवरिश में बहुत कुछ लगता है, और यही कारण है कि मदर्स डे और मदर्स डे के उपहार इतने खास हैं. यदि आप एक धार्मिक परिवार से आते हैं, तो बाइबिल के इन वचनों में से एक वचन, माँ के लिए आपका उपहार हो सकता है, जो एक सुंदर मदर्स डे कार्ड में लिखकर आप दे सकते हैं.

मदर्स डे पर अनमोल बाइबिल वचन, Mother’s Day Bible Verses

1. नीतिवचन 1:8-9 – “हे मेरे पुत्र, अपने पिता की शिक्षा पर कान लगा, और अपनी माता की शिक्षा को न तज; क्योंकि वे मानो तेरे सिर के लिये शोभायमान मुकुट, और तेरे गले के लिये कन्ठ माला होंगी।”

Proverbs 1:8-9: “Pay close attention, my child, to your father’s wise words and never forget your mother’s instructions. For their insight will bring you success, adorning you with grace-filled thoughts and giving you reins to guide your decisions.”

2. यशायाह 49:15: क्या यह हो सकता है कि कोई माता अपने दूधपिउवे बच्चे को भूल जाए और अपने जन्माए हुए लड़के पर दया न करे?

Isaiah 49:15: “Can a mother forget her nursing child? Can she feel no love for the child she has borne?”

3. नीतिवचन 31:31: “उसके हाथों के परिश्रम का फल उसे दो, और उसके कार्यों से सभा में उसकी प्रशंसा होगी”

Proverbs 31:31: “Honor her for all that her hands have done, and let her works bring her praise at the city gate.”

4. इफिसियों 6:1-3: “हे बालकों, प्रभु में अपने माता पिता के आज्ञाकारी बनो, क्योंकि यह उचित है. अपनी माता और पिता का आदर कर (यह पहिली आज्ञा है, जिस के साथ प्रतिज्ञा भी है)। कि तेरा भला हो, और तू धरती पर बहुत दिन जीवित रहे।”

Ephesians 6:1-3: “Children, if you want to be wise, listen to your parents and do what they tell you, and the Lord will help you. For the commandment, “Honor your father and your mother,” was the first of the Ten Commandments with a promise attached: “You will prosper and live a long, full life if you honor your parents.”

5. नीतिवचन 31:28-29: “उसके पुत्र उठ उठकर उस को धन्य कहते हैं, उनका पति भी उठ कर उसकी ऐसी प्रशंसा करता है: बहुत सी स्त्रियों ने अच्छे अच्छे काम तो किए हैं परन्तु तू उन सभों में श्रेष्ट है।’

Proverbs 31:28–29: “Her children rise up and call her blessed; her husband also, and he praises her: ‘Many women have done excellently, but you surpass them all.'”

6. यशायाह 66:13: “जैसे मां अपने बच्‍चों को सान्‍त्‍वना देती है,,वैसे ही मैं तुम्‍हें सान्‍त्‍वना दूंगा,,तुम यरूशलेम में सान्‍त्‍वना प्राप्‍त करोगे।

Isaiah 66:13: “As one whom his mother comforts, so I will comfort you.”

7. उत्पत्ति 3:20: “मनुष्‍य ने अपनी पत्‍नी का नाम हव्‍वा रखा, क्‍योंकि वह समस्‍त जीवन-धारी प्राणियों की माता बनी।”

Genesis 3:20: “The man called his wife’s name Eve, because she was the mother of all living.”

8. नीतिवचन 22:6: “लड़के को शिक्षा उसी मार्ग की दे जिस में उस को चलना चाहिये, और वह बुढ़ापे में भी उस से न हटेगा।”

Proverbs 22:6: “Train up a child in the way he should go; even when he is old he will not depart from it.”

9. व्यवस्थाविवरण 6:6-7: “और ये आज्ञाएं जो मैं आज तुझ को सुनाता हूं वे तेरे मन में बनी रहें; और तू इन्हें अपने बाल-बच्चों को समझाकर सिखाया करना, और घर में बैठे, मार्ग पर चलते, लेटते, उठते, इनकी चर्चा किया करना।”

Deuteronomy 6:6–7: “And these words that I command you today shall be on your heart. You shall teach them diligently to your children, and shall talk of them when you sit in your house, and when you walk by the way, and when you lie down, and when you rise.”

10. नीतिवचन 31:10: “भली पत्नी कौन पा सकता है? क्योंकि उसका मूल्य मूंगों से भी बहुत अधिक है। उस के पति के मन में उस के प्रति विश्वास है।”

Proverbs 31:10: “Who can find a virtuous woman? for her price is far above rubies.”

ये भी पढ़ें ; Bible Quotes About Life | जीवन के बारे में बाइबिल वचन | सिखाते है जीवन का सार 

Precious Bible Verses for Mother’s Day




11. नीतिवचन 31:26: “वह बुद्धि की बात बोलती है, और उस के वचन कृपा की शिक्षा के अनुसार होते हैं।”

Proverbs 31:26: “She opens her mouth with wisdom, and the teaching of kindness is on her tongue.”

12. 1 पतरस 3:4: “वह हृदय के अभ्‍यन्‍तर का शृंगार हो, अर्थात् विनम्र तथा शान्‍त स्‍वभाव का अनश्‍वर अलंकरण, जो परमेश्‍वर की दृष्‍टि में बहुत मूल्‍यवान् है।”

1 Peter 3:4: “You should be known for the beauty that comes from within, the unfading beauty of a gentle and quiet spirit, which is so precious to God.”

13. व्यवस्थाविवरण 4:9: “यह अत्यन्त आवश्यक है कि तुम अपने विषय में सचेत रहो, और अपने मन की बड़ी चौकसी करो, कहीं ऐसा न हो कि जो जो बातें तुम ने अपनी आंखों से देखीं उन को भूल जाओ, और वह जीवन भर के लिये तुम्हारे मन से जाती रहे; किन्तु तुम उन्हें अपने बेटों पोतों को सिखाना।


Deuteronomy 4:9: “Only be careful, and watch yourselves closely so that you do not forget the things your eyes have seen or let them fade from your heart as long as you live. Teach them to your children and to their children after them.”

14. लूका 2:51: “येशु उनके साथ तीर्थनगर यरूशलेम से नसरत नगर गया और उनके अधीन रहा। उसकी माता ने इन सब बातों को अपने हृदय में संजोए रखा।”

Luke 2:51: “And his mother treasured up all these things in her heart.”

15. निर्गमन 20:12: “‘अपने माता-पिता का आदर कर जिससे तेरी आयु उस भूमि पर दीर्घ हो सके जिसे तेरा प्रभु परमेश्‍वर तुझे प्रदान कर रहा है।,

Exodus 20:12: “Honor your father and your mother, so that you may live long in the land the Lord your God is giving you.”

16. भजन संहिता 127:3: “देखो, बालक-बालिका प्रभु का उपहार हैं,,गर्भ का फल प्रभु का एक दान है।”

Psalm 127:3: “Behold, children are a heritage from the Lord, the fruit of the womb a reward.”

17. नीतिवचन 1:8-9: “हे मेरे पुत्र, अपने पिता की शिक्षा पर कान लगा, और अपनी माता की शिक्षा को न तज। वे तेरे सिर पर शोभायमान मुकुट, और तेरे गले का हार हैं।”

Proverbs 1:8-9: “Listen, my son, to your father’s instruction and do not forsake your mother’s teaching. They are a garland to grace your head and a chain to adorn your neck.”

18. नीतिवचन 23:22-25: “अपने पिता की सुनो जिसने तुम्हें जीवन दिया है, और जब तुम्हारी माता बूढ़ी हो गई है, तब भी उसे तुच्छ न जानना। सच्चाई को मोल लेना और उसे बेचना मत; बुद्धि, शिक्षा और समझ को मोल लेना। धर्मियों का पिता। वह बहुत आनन्दित होगा; जिसका बुद्धिमान पुत्र उत्पन्न होता है, वह उसके कारण आनन्दित होगा। तेरा माता पिता आनन्दित हो, और तेरी जननी आनन्दित हो।

Proverbs 23:22-25: “Listen to your father who gave you life, and do not despise your mother when she is old. Buy truth, and do not sell it; buy wisdom, instruction, and understanding. The father of the righteous will greatly rejoice; he who fathers a wise son will be glad in him. Let your father and mother be glad; let her who bore you rejoice.”

19. 3 यूहन्ना 1:4: “मुझे इससे बढ़कर और कोई आनन्द नहीं कि मैं सुनूँ, कि मेरे बच्‍चे सत्य पर चलते हैं।”

3 John 1:4: “I have no greater joy than to hear that my children are walking in the truth.”
Colossians 3:13: “Bear with one another and, if one has a complaint against another, forgive each other; as the Lord has forgiven you, so you also must forgive.”

20. यूहन्ना 16:21 – “जब स्त्री जनने लगती है तो उस को शोक होता है, क्योंकि उस की दु:ख की घड़ी आ पहुंची, परन्तु जब वह बालक जन्म चुकी तो इस आनन्द से कि जगत में एक मनुष्य उत्पन्न हुआ, उस संकट को फिर स्मरण नहीं करती।”


John 16:21 – “When a woman gives birth, she has pain because her time has come. But when the child is born, she no longer remembers her distress because of her joy that a child has been born into the world.”

bible verses about mother’s love

21. नीतिवचन 31 : 21 : वह अपने घराने के लिये हिम से नहीं डरती, क्योंकि उसके घर के सब लोग लाल कपड़े पहिनते हैं।
22. यहेजकेल 19 : 2 – तेरी माता एक कैसी सिंहनी थी! वह सिंहों के बीच बैठा करती और अपने बच्चों को जवान सिंहों के बीच पालती पोसती थी।

Ezekiel 19:2 “Say: What a lioness among lionesses was your mother! She bedded down among the strong young lions and reared her cubs.”



23. यहेजकेल 19 : 10 – तेरी माता जिस से तू अत्पन्न हुआ, वह तीर पर लगी हुई दाखलता के समान थी, और गहिरे जल के कारण फलों और शाखाओं से भरी हुई थी।


24. उत्पत्ति 27:14 – तब याकूब जा कर उन को अपनी माता के पास ले आया, और माता ने उसके पिता की रूचि के अनुसार स्वादिष्ट भोजन बना दिया।

Genesis 27:14 – “So he went and got them and brought them to his mother, and his mother made the delicious food that his father loved.”

25. 1 थिस्सलुनीकियों 2:7 – और वैसे भी हम मसीह की प्रेरणा से होने के कारण तुम पर बोझ डाल सकते थे, तौभी हम से आदर नहीं चाहते थे, और न तुम से, न और किसी से। 7परन्तु जिस तरह माता अपने बालकों का पालन-बोध करती है, वैसे ही हम ने भी तुम्हारे बीच में रह कर दिखाई देते हैं।

1 Thessalonians 2:7 “Although we could have thrown our weight around as Christ’s apostles. Instead, we were gentle with you like a nursing mother caring for her own children.”

ये भी पढ़ें ; 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *