Bible Verses बाइबल अध्ययन

Bible Verse About Faith | विश्वास पर बाइबिल वचन | जो चुनौतियों का सामना करने में मजबूत बनाते है

bible verse about faith, Bible verses on faith in hindi, Without faith, it is impossible to please God., Scriptures on Faith and Trust, Bible Quotes about Faith, विश्वास पर बाइबिल वचन, विश्वास के बारे में बाइबिल वचन, scriptures on faith, what is faith in the bible, क्या आप विश्वास के बारे में कुछ महान बाइबिल वचनों की तलाश कर रहे हैं?

Praise The Lord. जब भी कोई बुरे समय से गुजरते हैं, या किसी संकट या चुनौती का सामना करते हैं, उस वक्त विश्वास बनाए रखना उनके लिए बहुत ही कठिन होता हैं. जब जीवन में हर एक चीज अनावश्यक रूप से चुनौतीपूर्ण या भयानक लगती है, तब विश्वास बरकरार रखना निश्चित रूप से कठिन रहता हैं. ऐसे वक्त में विश्वास की कमी के कारण परमेश्वर से सवाल करते है कि, मैं ही क्यों? अब क्यों? और यह पूछना स्वाभाविक है, क्योंकि परमेश्वर की योजना को समझना हमेशा हमारे ऊपर नहीं होता है. विश्वास हमें यह जानने में सांत्वना और शक्ति प्रदान करता है कि परमेश्वर हमारी देखभाल अनदेखे और अज्ञात तरीकों से की जाती है.

अगर आप कठिन समय से गुजर रहे हो, आप किसी संकट या चुनौती का सामना कर रहे हो. और विश्वास में कमजोर महसूस कर रहे हो तो, बाइबिल को जरुर पढ़े. बाइबिल का हर वचन आपको विश्वास में आगे बढ़ने में मदद करेगा. बाइबिल आपके विश्वास के भंडार को भरने के लिए एक महान जगह है. चाहे आप धैर्य के बारे में शांती के वचनों की तलाश कर रहे हों, प्यार के बारे में बाइबल के वचनों को बढ़ावा देने की आवश्यकता हो, या चिंता के बारे में कुछ आराम देने वाले वचनों की इच्छा हो. आपको सब ज्ञान बाइबिल से मिलेगा. 
बाइबल उस प्रेम और स्वीकृति के संदेशों से भरी पड़ी है जो हमें परमेश्वर से प्राप्त होता है जब हम कठिन समय में भी उस पर अपना विश्वास रखते हैं. आपको बता दूँ कि, जब आपके पास सच्चा विश्वास होता है, तो कोई भी कष्ट व्यर्थ नहीं होता.

यहाँ हम आपसे 30 bible verse about faith (विश्वास के बारे में बाइबिल वचन) साझा कर रहे हैं. जो आपको अपने विश्वास में जरुर मजबूत करने में मददगार साबित होंगे. जब हमारे आसपास की दुनिया डरावनी और अनिश्चित लगती है, तब ये बाइबिल वचन हमें इस बात की याद दिलाते हैं कि विपरीत परिस्थितियों में हमारा विश्वास कितना महत्वपूर्ण हो जाता है.

**



विश्वास क्या है? What is Faith?

सीधे शब्दों में कहें,  विश्वास यानी परमेश्वर पर विश्वास करते हुए उसकी योजना पर भरोसा करना है. तब भी जब आप इसे नहीं समझते हैं और इसे देख नहीं सकते हैं. जैसा कि यह हमारे जीवन पर लागू होता है, विश्वास केवल एक भावना नहीं हैं , यस उससे कोई अधिक के बारे में है, यह हमारे जीने के बारे में है. हम परमेश्वर के प्रति आज्ञाकारिता और सेवा के कार्यों के द्वारा अपने विश्वास को जीते हैं. विश्वास में जीने के तरीकों की तलाश करते समय, दिशा के लिए सबसे अच्छा संसाधन बाइबिल है.

bible verse about faith, विश्वास पर बाइबिल वचन

bible verse about faith, bible verse on faith in hindi, विश्वास पर बाइबिल वचन
bible verse about faith | विश्वास पर बाइबिल वचन | 

1. रोमियों 10 : 17 – सो विश्वास सुनने से, और सुनना मसीह के वचन से होता है। रोमियों 10 : 17


Romans 10:17 – So faith comes from hearing, and hearing through the word of Christ.

2. मत्ती 21 : 22 – और जो कुछ तुम प्रार्थना में विश्वास से मांगोगे वह सब तुम को मिलेगा॥


Matthew 21:22 – And whatever you ask in prayer, you will receive, if you have faith.

3. इब्रानियों 11 : 1 – अब विश्वास आशा की हुई वस्तुओं का निश्चय, और अनदेखी वस्तुओं का प्रमाण है।


Hebrews 11:1 – Now faith is the assurance of things hoped for, the conviction of things not seen.

4. इब्रानियों 11:6 – और विश्‍वास बिना उसे प्रसन्न करना अनहोना है; क्योंकि परमेश्‍वर के पास आनेवाले को विश्‍वास करना चाहिए कि वह है, और अपने खोजनेवालों को प्रतिफल देता है।

Hebrews 11:6 – And without faith it is impossible to please him, for whoever would draw near to God must believe that he exists and that he rewards those who seek him.

5. 1 यूहन्ना 5:4 – क्योंकि जो कुछ परमेश्वर से उत्पन्न हुआ है, वह संसार पर जय प्राप्त करता है, और वह विजय जिस से संसार पर जय प्राप्त होती है हमारा विश्वास है।

1 John 5:4 – For everyone who has been born of God overcomes the world. And this is the victory that has overcome the world—our faith.

6. इब्रानियों 10 : 38 – और मेरा धर्मी जन विश्वास से जीवित रहेगा, और यदि कोई पीछे हट जाए तो मेरा मन उस से प्रसन्न न होगा।


hebrews 10 : 38 – Now the just shall live by faith; But if anyone draws back, My soul has no pleasure in him.”

7. मत्ती 17 : 20 – उस ने उन से कहा,अपने विश्वास की घटी के कारण;क्‍योंकि मैं तुम से सच कहता हूं, यदि तुम्हारा विश्वास राई के दाने के बराबर भी हो, तो इस पहाड़ से कहोगे, कि यहां से सरककर वहां चला जा, तो वह चला जाएगा, और कोई बात तुम्हारे लिथे असंभव न होगी।


matthew 17 : 20 – He replied, “Because you have so little faith. Truly I tell you, if you have faith as small as a mustard seed, you can say to this mountain, ‘Move from here to there,’ and it will move. Nothing will be impossible for you.”

8. याकूब 2 : 24 – सो तुम ने देख लिया कि मनुष्य केवल विश्वास से ही नहीं, वरन कर्मों से भी धर्मी ठहरता है।


James 2:24 – You see that a person is justified by works and not by faith alone.

9. 2 कुरिन्थियों 5:7 –क्योंकि हम रूप को देखकर नहीं, पर विश्वास से चलते हैं।


2 Corinthians 5:7 – For we walk by faith, not by sight.

***



faith brings healing

10. मरकुस 9:23 –यीशु ने उस से कहा; यदि तू कर सकता है; यह क्या बता है विश्वास करने वाले के लिये सब कुछ हो सकता है।


Mark 9:23 – And Jesus said to him, “‘If you can’! All things are possible for one who believes.”

11. मत्ती 21:22 – और जो कुछ तुम प्रार्थना में विश्वास से मांगोगे वह सब तुम को मिलेगा


Matthew 21:22 – And whatever you ask in prayer, you will receive, if you have faith.”

12. याकूब 2:19 – तुझे विश्वास है कि एक ही परमेश्वर है: तू अच्छा करता है: दुष्टात्मा भी विश्वास रखते, और थरथराते हैं।


James 2:19 – You believe that God is one; you do well. Even the demons believe—and shudder!

13. 2 तीमुथियुस 4 : 7 – मैं अच्छी कुश्ती लड़ चुका हूं मैं ने अपनी दौड़ पूरी कर ली है, मैं ने विश्वास की रखवाली की है।


2 Timothy 4:7 – I have fought the good fight, I have finished the race, I have kept the faith.

14. 1 कुरिन्थियों 2 : 5 – इसलिये कि तुम्हारा विश्वास मनुष्यों के ज्ञान पर नहीं, परन्तु परमेश्वर की सामर्थ पर निर्भर हो.


1 Corinthians 2:5 – That your faith might not rest in the wisdom of men but in the power of God.

15. यूहन्ना 3 : 36 – जो पुत्र पर विश्वास करता है, अनन्त जीवन उसका है; परन्तु जो पुत्र की नहीं मानता, वह जीवन को नहीं देखेगा, परन्तु परमेश्वर का क्रोध उस पर रहता है॥


John 3:36 – Whoever believes in the Son has eternal life; whoever does not obey the Son shall not see life, but the wrath of God remains on him.

16. रोमियो 15 : 13 – सो परमेश्वर जो आशा का दाता है तुम्हें विश्वास करने में सब प्रकार के आनन्द और शान्ति से परिपूर्ण करे, कि पवित्र आत्मा की सामर्थ से तुम्हारी आशा बढ़ती जाए॥


Romans 15:13 – May the God of hope fill you with all joy and peace in believing, so that by the power of the Holy Spirit you may abound in hope.

17. नीतिवचन 3 : 5-6 – तू अपनी समझ का सहारा न लेना, वरन सम्पूर्ण मन से यहोवा पर भरोसा रखना। उसी को स्मरण करके सब काम करना, तब वह तेरे लिये सीधा मार्ग निकालेगा।


Proverbs 3:5-6 – Trust in the Lord with all your heart, and do not lean on your own understanding. In all your ways acknowledge him, and he will make straight your paths.

18. गलातियों 2 : 20 – मैं मसीह के साथ क्रूस पर चढ़ाया गया हूं, और अब मैं जीवित न रहा, पर मसीह मुझ में जीवित है: और मैं शरीर में अब जो जीवित हूं तो केवल उस विश्वास से जीवित हूं, जो परमेश्वर के पुत्र पर है, जिस ने मुझ से प्रेम किया, और मेरे लिये अपने आप को दे दिया।


Galatians 2:20 – I have been crucified with Christ. It is no longer I who live, but Christ who lives in me. And the life I now live in the flesh I live by faith in the Son of God, who loved me and gave himself for me.

19. इफिसियों 2 ; 8 – क्योंकि विश्वास के द्वारा अनुग्रह ही से तुम्हारा उद्धार हुआ है, और यह तुम्हारी ओर से नहीं, वरन परमेश्वर का दान है।


Ephesians 2:8-9 – For by grace you have been saved through faith. And this is not your own doing; it is the gift of God, not a result of works, so that no one may boast.

20. याकूब 1 : 5-6 – पर यदि तुम में से किसी को बुद्धि की घटी हो, तो परमेश्वर से मांगे, जो बिना उलाहना दिए सब को उदारता से देता है; और उस को दी जाएगी। पर विश्वास से मांगे, और कुछ सन्देह न करे; क्योंकि सन्देह करने वाला समुद्र की लहर के समान है जो हवा से बहती और उछलती है।


James 1:5-8 – If any of you lacks wisdom, let him ask God, who gives generously to all without reproach, and it will be given him. But let him ask in faith, with no doubting, for the one who doubts is like a wave of the sea that is driven and tossed by the wind. For that person must not suppose that he will receive anything from the Lord; he is a double-minded man, unstable in all his ways.

21. हबक्कूक 2 : 4 – देख, उसका मन फूला हुआ है, उसका मन सीधा नहीं है; परन्तु धर्मी अपने विश्वास के द्वारा जीवित रहेगा।


Habakkuk 2:4 – “Behold, his soul is puffed up; it is not upright within him, but the righteous shall live by his faith.

22. मरकुस 16 : 16 – जो विश्वास करे और बपतिस्मा ले उसी का उद्धार होगा, परन्तु जो विश्वास न करेगा वह दोषी ठहराया जाएगा।


Mark 16:16 – Whoever believes and is baptized will be saved, but whoever does not believe will be condemned.

Faith is dead without work


23. याकूब 2 : 26 – निदान, जैसे देह आत्मा बिना मरी हुई है वैसा ही विश्वास भी कर्म बिना मरा हुआ है॥


James 2:26 – As the body without the spirit is dead, so faith without deeds is dead.

24. 1 कुरिन्थियों 16 : 13 – जागते रहो, विश्वास में स्थिर रहो, पुरूषार्थ करो, बलवन्त होओ।


1 Corinthians 16:13 – Be watchful, stand firm in the faith, act like men, be strong.

25. इफिसियों 6 : 16 – और उन सब के साथ विश्वास की ढाल लेकर स्थिर रहो जिस से तुम उस दुष्ट के सब जलते हुए तीरों को बुझा सको।


Ephesians 6:16 – In all circumstances take up the shield of faith, with which you can extinguish all the flaming darts of the evil one;

26. याकूब 2 : 17 – वैसे ही विश्वास भी, यदि कर्म सहित न हो तो अपने स्वभाव में मरा हुआ है।


James 2:17 – So also faith by itself, if it does not have works, is dead.

27. यूहन्ना 8 : 24 – इसलिये मैं ने तुम से कहा, कि तुम अपने पापों में मरोगे; क्योंकि यदि तुम विश्वास न करोगे कि मैं वहीं हूं, तो अपने पापों में मरोगे।


John 8:24 – I told you that you would die in your sins, for unless you believe that I am he you will die in your sins.”

28. रोमियो 10 : 9 – कि यदि तू अपने मुंह से यीशु को प्रभु जानकर अंगीकार करे और अपने मन से विश्वास करे, कि परमेश्वर ने उसे मरे हुओं में से जिलाया, तो तू निश्चय उद्धार पाएगा।


Romans 10:9 – Because, if you confess with your mouth that Jesus is Lord and believe in your heart that God raised him from the dead, you will be saved.

29. 1 पतरस 1: 6-9 – और इस कारण तुम मगन होते हो, यद्यपि अवश्य है कि अब कुछ दिन तक नाना प्रकार की परीक्षाओं के कारण उदास हो। और यह इसलिये है कि तुम्हारा परखा हुआ विश्वास, जो आग से ताए हुए नाशमान सोने से भी कहीं, अधिक बहुमूल्य है, यीशु मसीह के प्रगट होने पर प्रशंसा, और महिमा, और आदर का कारण ठहरे। उस से तुम बिन देखे प्रेम रखते हो, और अब तो उस पर बिन देखे भी विश्वास करके ऐसे आनन्दित और मगन होते हो, जो वर्णन से बाहर और महिमा से भरा हुआ है। और अपने विश्वास का प्रतिफल अर्थात आत्माओं का उद्धार प्राप्त करते हो।


1 Peter 1:6-9  – In all this you greatly rejoice, though now for a little while you may have had to suffer grief in all kinds of trials. These have come so that the proven genuineness of your faith—of greater worth than gold, which perishes even though refined by fire—may result in praise, glory and honor when Jesus Christ is revealed. Though you have not seen him, you love him; and even though you do not see him now, you believe in him and are filled with an inexpressible and glorious joy, for you are receiving the end result of your faith, the salvation of your souls.

30. रोमियो 1 : 17 – क्योंकि उस में परमेश्वर की धामिर्कता विश्वास से और विश्वास के लिये प्रगट होती है; जैसा लिखा है, कि विश्वास से धर्मी जन जीवित रहेगा॥


Romans 1:17 – For in it the righteousness of God is revealed from faith for faith, as it is written, “The righteous shall live by faith.”

ये भी पढ़ें 


Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *