बाइबल के रोचक तथ्य, 30 Amazing Facts About The Bible In Hindi

 

Bible Trivia, बाइबल के रोचक तथ्य, 30 Amazing Facts About Bible In Hindi
Amazing Facts About Bible In Hindi

Praise The Lord. Amazing Facts About The Bible In Hindi. बाइबल एक किताब नहीं हैं यह जीवन जीने की और अनंत जीवन प्राप्त करने की परमेश्वर की ओर से दी गई नियमावली हैं. बाइबल हमें उद्धार का मार्ग दिखलाती हैं. और उस मार्ग पर हमें किस प्रकार चलना चाहिए इसका मार्गदर्शन करती हैं. जब हम किसी समस्या में पड़ जाते हैं तो बाइबल सलाह देती है कि किसी भी तरह की समस्याओं को कैसे सुलझाया जाए.


आधुनिक समय के ईसाई मानते हैं कि उनके हाथों में बाइबल उनके जीवन के हर पहलू के लिए उतनी ही फायदेमंद है, जितनी पहली शताब्दी में ईसाइयों के लिए थी. बाइबल में 1,000 से अधिक वर्षों से ईसाई धर्म का इतिहास, रहस्योद्घाटन और भविष्यवाणियां शामिल हैं.


आज हम आपको बाइबल के रोचक तथ्य, Interesting Facts About Bible in hindi बताएंगे. जो बाइबल को लेकर आपके ज्ञान की परीक्षा लेने में आपकी काफी मदद करेंगे. यदि आप बाइबल के नए पाठक हैं, तो वे आपके दिमाग में कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों को स्पष्ट करने में मदद करेंगे.


तो आइए नीचे दिए गए बाइबल तथ्यों के हमारे संकलन के माध्यम से दुनिया की सबसे लोकप्रिय पुस्तक पर करीब से एक नज़र डालें. यदि आप ईसाई नहीं हैं, तो भी यहाँ बाइबल के बारे में जानने योग्य रोचक बातें हैं.


बाइबल के रोचक तथ्य, 30 Interesting Facts About The Bible In Hindi


1. “बाइबल” शब्द की उत्पत्ति यूनानी शब्द ‘टा बिब्लिया’ (ta biblia) से हुई है, जिसका अर्थ है “पुस्तक”. 


2. 3,000 साल से भी अधिक पुराना ग्रंथ है बाइबल.


3. बाइबल मुख्यरूप से 3 भाषाओं में लिखी गई थी. वे भाषाएँ हिब्रू, अरामी और ग्रीक हैं. हमारा अधिकांश पुराना नियम हिब्रू में लिखा गया था, जो मूल पाठकों द्वारा बोली जाने वाली भाषा थी. पुराने नियम के कुछ अंश अरामी (एज्रा और दानिय्येल) भाषा में लिखे गए थे. नया नियम ग्रीक में लिखा गया था, जो उस समय की सामान्य रूप से बोली जाने वाली भाषा थी. हालाँकि हिब्रू बाइबिल की मूल भाषा मानी जाती हैं.


4. बाइबिल तीन महाद्वीपों पर लिखी गई थी. अधिकांश बाइबल को आधुनिक समय के इज़राइल (एशिया) में लिखा गया था. लेकिन यिर्मयाह के कुछ अंश मिस्र (अफ्रीका) में लिखे गए थे और कई नए नियम के पत्र यूरोप के शहरों से लिखे गए थे.


5. बाइबिल को दो भागों में विभाजित किया गया है : पुराना नियम(Old Testament) और नया नियम(New Testament)


6. बाइबिल का पुराना नियम(Old Testament) यहूदी धर्म का पवित्र ग्रंथ हैं.


7. बाइबल को पाँच वर्गीकरणों (classifications) में बांटा गया हैं. और वे है, ऐतिहासिक ग्रंथ, काव्य ग्रंथ, भविष्यसूचक पुस्तकें, पत्रियाँ (किसी व्यक्ति या लोगों के समूह को निर्देशित या भेजी गई लेखन), और सुसमाचार.


8. बाइबल में 5 काव्य पुस्तकें (poetical books) हैं. जो अय्यूब, भजन संहिता, नीतिवचन, सभोपदेशक और सुलैमान के गीत हैं. बाइबल के इतिहासकार इन किताबों को ऐतिहासिक अतीत और भविष्य की भविष्यवाणी की किताबों के बीच एक कड़ी के रूप में देखते हैं.


9. बाइबल में 17 ऐतिहासिक पुस्तकें (historical books) हैं. बाइबल की 17 ऐतिहासिक पुस्तकें इस प्रकार हैं: उत्पत्ति, निर्गमन, लैव्यव्यवस्था, गिनती , व्यवस्थाविवरण, यहोशू, न्यायियों, रूत, 1 शमूएल, 2 शमूएल, 1 राजा, 2 राजा, 1 इतिहास, 2 इतिहास, एज्रा, नहेम्याह और एस्तेर. ये पुस्तकें पुराने नियम की ऐतिहासिक घटनाओं से रूबरू कराती हैं.


10. बाइबल में 17 भविष्यवाणी पुस्तकें हैं : जो यशायाह, यिर्मयाह, विलापगीत, यहेजकेल, दानिय्येल, होशे, योएल, अमोस, ओबद्याह, योना, मीका, नहूम, हबक्कूक, सपन्याह, हागै, जकर्याह और मलाकी. ये सभी पुस्तकें बाइबल के छोटे भविष्यवक्ताओं द्वारा लिखी गई थीं.


11. बाइबिल के नए नियम में 21 पत्रियाँ (Epistles) हैं, जो ईसा मसीह के शिष्यों द्वारा प्रथम स्थापित कलीसियाओं को लिखे गए पत्रों का संकलन है. जिसमें रोमियों, १ कुरिन्थियों, २ कुरिन्थियों, गलातियों, इफिसियों, फिलिप्पियों, कुलुस्सियों, १ थिस्सलुनीकियों, २ थिस्सलुनीकियों, १ तीमुथियुस, २ तीमुथियुस, तीतुस, फिलेमोन, इब्रानियों, याकूब, १ पतरस, २ पतरस , 1 यूहन्ना, 2 यूहन्ना, 3 यूहन्ना और यहूदा हैं.


12. बाइबल में दुनिया के तीन मुख्य धर्मों की परंपराओं का वर्णन किया गया है: ईसाई धर्म, यहूदी धर्म और इस्लाम.


13. दुनिया के सभी प्रमुख धर्म बाइबिल के पुराने नियम(Old Testament) का पालन करते हैं, जिसमें ईसाई, यहूदी और इस्लाम धर्म शामिल हैं.


14. बाइबल में 780,000 से भी अधिक शब्द हैं.


15. बाइबल में अंतिम शब्द आमीन (Amen) है.


16. बाइबल में केवल बारह भविष्यद्वक्ता हैं. और इन बारह भविष्यवक्ताओं(prophets) ने पुराने नियम में योगदान दिया. ये भविष्यद्वक्ता होशे, योएल, आमोस, ओबद्याह, योना, मीका, नहूम, हबक्कूक, सपन्याह, हाग्गै, जकर्याह और मलाकी हैं. 


17. बाइबल में वर्णित सबसे वृद्ध व्यक्ति Methuselah था, जिसकी 969 वर्ष की आयु में मृत्यु हुई थी.


18. वर्तमान में मूल बाइबल का कोई भी अंश उपलब्ध नहीं है.


19. बाइबल 40 से अधिक लेखकों द्वारा लिखी गई हैं. और इन लेखकों में विभिन्न वर्गों के लोग शामिल हैं. चरवाहे, राजा, किसान, कवि, मछुआरे, एक तम्बू बनाने वाले, बेघर भविष्यद्वक्ताओं, एक डॉक्टर, एक पेशेवर मुंशी, व्यावसायिक संगीतकारों, पादरियों आदि शामिल हैं.


20. पुराने नियम को लिखने में 1,000 वर्षों का समय लगा था, जबकि नया नियम 50 से 75 वर्षों में लिख लिया गया था.


21. पहली बाइबल को याद करना बहुत ही कठिन होता था. क्योंकि पहली बाइबल में पद (verses) नहीं थे. जिनेवा बाइबल पहली बाइबल थी, जो क्रमानुसार पदों में व्यवस्थित थी.


22. बाइबल में औसतन 1,200 पृष्ठ हैं.


23. बाइबल में कम से कम 185 गाने हैं. इनमें से लगभग 150 भजन संहिता की पुस्तक में हैं.


24. बाइबल में 21 सपने दर्ज हैं. और उनमें से अधिकतर यूसुफ नाम के दो अलग-अलग आदमियों के पास हैं.


25. बाइबल में 3000 से अधिक भविष्यवाणी पद हैं. जो पहले ही किसी न किसी रूप में सच हो चुके हैं. लगभग 3,000 और भविष्यवाणियां अभी पूरी होनी बाकी हैं.


26. इतिहास की सबसे अधिक बिकने वाली पुस्तक है बाइबल, जिसकी 5 बिलियन से अधिक प्रातियाँ बिक चुकी हैं.


27. हर साल बाइबल की 100 मिलियन से अधिक प्रतियां बिकती हैं.


28. पूरी दुनिया में बाइबल का सबसे बड़ा उत्पादक चीन है.


29. किंडल पर अब तक सबसे ज्यादा बिकने वाली पुस्तकों में बाइबल पहले स्थान पर है.


30. अब तक संपूर्ण बाइबल का लगभग 704 भाषाओं में अनुवाद किया जा चुका है. जबकि नये नियम का अनुवाद 1551 भाषाओँ में और बाइबल के आंशिक भागों और कहानियों का अनुवाद 1160 भाषाओं में किया गया है. (वर्ष 2020 तक)


31. बाइबल में "ट्रिनिटी" शब्द का कहीं भी उल्लेख नहीं किया गया है. अधिकांश ईसाई मानते हैं कि ईश्वर तीन व्यक्तियों में हमेशा के लिए मौजूद है: पिता, पुत्र यीशु मसीह और पवित्र आत्मा. और इन तीनों को बाइबल में दिव्य कहा गया है. और बाइबल में 20 पद ऐसे है जहाँ तीनों का उल्लेख किया गया है. हालाँकि, "ट्रिनिटी" नहीं आता है.


ये लेख भी आपको पसंद आयेंगे ;

1) Bible Trivia, बाइबल सामान्य ज्ञान प्रश्न-उत्तर, Bible question answer in hindi

2) क्या परमेश्वर के और भी दूसरे नाम हैं? क्या आप जानते हैं बाइबल में बताए गए परमेश्वर के अलग-अलग नाम?

3) बाइबल सामान्य ज्ञान, बाइबल में कितने पुस्तक, अध्याय और वचन हैं, how many books, chapters and verses are there in the Bible


तो आशा करते हैं आपको 30 Interesting Facts About The Bible In Hindi पढ़कर अच्छा लगा होगा. अगर आपके पास बाइबल से जुड़ी रोचक जानकारी होंगी, तो हमारे साथ जरुर शेयर करें. हम आपके नाम के साथ www.yeshukimahima.in पर पोस्ट करेंगे.


अगर यह जानकारी आपको अच्छी लगी, तो अपने परिवार और दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें. धन्यवाद

Previous
Next Post »